बुधवार, 14 दिसंबर 2011


जो कुछ है बस उसमें गुजर क्यों नहीं होता ।
होता है इधर कुछ तो उधर क्यों नहीं होता ।।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें